Bulletprofit

माँ रूप - सास


एक लड़की की शादी हुई और वो किसी अनजान घर की सदस्य बन गयी, आज से वो एक बहु है | थोड़ी घबराई है और थोड़ी उलझनों से भरी है, वो लड़की शायद कुछ डरी है !!!! अबसे एक बहु के सफर की शुरुवात है..!!

पर क्या आपने दूसरा पहलू भी समझा ??

आज एक बेटे की माँ भी तो सास बनी है, सफर उनका भी नया है | आज उनकी भी नयी शुरुवात है !!!!! ख़ुशी और उलझन भी आज दोनों के मन में होगी, दोनों को एक दूसरे से बहुत आस है | सास के मन की बात भी अनकही है .. !!

 बहु के लिए सब नया है, नया बदलाव है | पर सास ने भी तो ऐसा महसूस पहली बार किया है !!!!!

कहते है कुछ रिश्ते बहुते नाजुक होते है, बस उन्ही रिश्तो में से एक रिश्ता है सास - बहु का !!

" रिश्ते को शायद नाजुक सही, पर कमजोर नहीं कह सकते, डोर बंध जाए मजबूती से तो तोड़ नहीं सकते "

रिश्ते की गहराई को आज अगर मैं लिखने बैठु तो शायद वो गहरे शब्द नहीं मिल पाएंगे परन्तु गहराई का अनुमान लगाते हुए कुछ बातें जरूर है कहने को -

यूँ तो हर रिश्ते के लिए सबका अनुभव अलग अलग रहता है, आज मैं बैठे हुए जब पुरे सफर को पीछे देखती हूँ, समझ में आता है कि इस बहु के सफर में कही भी अकेले नहीं थी !! ये रिश्ता तो एक दूसरे से जुड़ा है, नहीं तो फिर अधूरा है !! ये सफर अकेले का हो ही नहीं सकता, रिश्ता ही ऐसा है !!

 दोनों पक्ष (सास-बहु) को सोचते हुए मैं अपने अनुभव लिखती हूँ - 

          " पार किये है कई पड़ाव उन्होंने,तुम्हे तो अभी पार करना है.

             गुजर चुकी है वो जिन राहो से, तुम्हे तो अभी गुजरना है.

             बहुत अनुभव है उनको जीवन का, तुम्हे तो बस उन्हें सुनना है.

             देंगी कुछ हिदायते तुम्हे वो, तुम्हे तो बस उन्हें समझना है "

एक गीत की लाइन है जो अक्सर मैं गुनगुनाती हु और मुझे बेहद पसंद है - " प्यारा पीया है, तुमने दिया है "

सच्च ही तो है, यूँही बैठे हुए सोचती मैं ये ही सोच रही हूँ की बहुत खुश हूँ एक काबिल हमसफ़र पा कर, उसे काबिल तो आपने बनाया है माँ | हाँ वो मुझे बहुत सपोर्ट करते है पर उनको इतना सपोर्टिव आपने बनाया है माँ| वो मुझे बहुत खुश रखते है पर उनको ऐसी नेक परवरिश आपने दी है माँ | मेरी इच्छाओ का ध्यान रखते है, ऐसे संस्कार आपके ही तो दिए है माँ | आज स्टेटस डालती हु मैं my best hubby का, उनको इतना सक्षम आपने बनाया है माँ | आपकी परवरिश को हर दिन जी रही हु मैं !! क्यों की जो भीं आज मेरा है, आपने ही दिया है माँ |

" आपकी तपस्या है, जो फल मुझे मिला है

  पेड़ को सींचा है आपने, छाया मुझे मिला है "

कितने पहलू है इस रिश्ते के, जिस भी पहलू से देखू - आपने हमेशा मुझे बहुत कुछ दिया है | 

आपकी हिदायतों से तो मेरी बेफिक्री है - " आज मेहँदी लगा लेना, कल तीज है वाली हिदायत | कल प्रशाद चढ़ा देना, त्यौहार है वाली हिदायत " ऐसी और भी कई हिदायत !!

उनका बहुत सी बातों पे समझाना, कभी प्यार तो कभी डांटना , कभी सलाहकार बन कर सलाह देना, कभी एक सहेली बन कर हंसी - ठिठोली करना, कभी एक बच्चा बन बच्चो में लग जाना !! कितने रूप देखती आयी हूँ मैं उनके, हर रूप से मुझे लगाव है.. |

" क्यों बात करू मैं आज एक तरफी, जब त्याग तो यहाँ दोनों ने किया है 

  वो कहते है घर छोड़ आयी लड़की, सास ने तो उसे बेटा अपना दिया है 

  जुड़ा है हमसे ही घर उसका, इसीलिए तो गलती पे उसने हमे रोका है 

 बिखर ना जाए घर प्यारा सा, इसीलिए तो पग पग पे उसने टोका है ..... "

छोटा दर्द हो या बड़ा, एक छोटे से जुखाम से ले कर प्रसव पीड़ा तक वो ही तो है मेरे साथ | अपने मायके से कौसो दूर बियाही मैं, वो माँ बाप कहा समय पर पहुंच पाते है अब  !! वो याद है मुझे जब दर्द हुआ तो उन्होंने मुझे थामा था, रात भर अस्पताल में जाग के मुझे संभाला था |

" व्यवहार करना सिखाया था माँ ने , आपने निभाना सिखाया है |

  संस्कार दिए थे माँ ने , आपने संस्कारो से खिलना सिखाया है 

  मैं हर दिन आपसे सीख रही हूँ | अभी और भी बहुत कुछ सीखना है 

 कितने बदलाव महसूस करती हूँ मैं खुद में, लगता है जैसे सलीका तो अभी आया है "

हर छोटी बड़ी बात मैंने आपसे सीखी है | 

" आज जो हूँ मैं एक अलग सी हूँ मैं

   पहले से ज्यादा काबिल हूँ मैं "

 " सक्षम हूँ घर संभालने में, आपसे ही तो सब सीखा है

नहीं कहती बस माँ ने जन्मा मुझे, एक जनम आपसे भी तो पाया है " 

- बहुत प्यार और आदर के साथ मेरा सब माओ को सम्म्मान |

Follow Me On Instagram

धन्यवाद | 

mannkibaatbyneha  mother-in-law  daughter in law  bond motherinlaw - daughterinlaw  blog hindi blog  depth of bond mann ki baat

Post a Comment

12 Comments

हालातों की सीख़ - मन की बात नेहा के साथ